शहरी समृद्धि उत्सव‘ पखवाड़ा 15 फरवरी तक शहरी गरीब परिवारों को व्यवसायिक गतिविधियों से जोड़ा जाएगा

0
40

रायपुर,नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग द्वारा राष्ट्रीय शहरी अजीविका मिशन (एन.यू.एल.एम.) के तहत माह फरवरी का प्रथम पखवाड़ा को ‘शहरी समृद्धि उत्सव‘ पखवाड़ा के रुप में मनाया जा रहा है। शहरी समृद्धि उत्सव पंखवाड़ा 15 फरवरी तक चलेगा। यह कार्यक्रम केन्द्रीय आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय, नई दिल्ली के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है। नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने आज यहां बताया कि शहरी गरीब, मध्यम एवं वंचित निर्धन परिवारों को विभिन्न व्यवसायिक गतिविधियों से जोड़ने तथा उन्हें आजीविका के प्रति जागरूक करने के लिए शहरी समृद्धि उत्सव पखवाड़ा का आयोजन किया जा रहा है। यह आयोजन शहरी महिलाओं के आजीविका संवर्धन एवं सशक्तिकरण पर केन्द्रित हैं। इसका उद्देश्य महिलाओं को समान अवसर प्रदान करना है। मिशन के माध्यम से शहरी गरीब परिवारों, वंचितों एवं छूटे हुये परिवारों को मिशन की गतिविधियों से जोड़ा जायेगा। डॉ. डहरिया ने बताया कि शहरी समृद्धि उत्सव पखवाड़ा अंतर्गत जागरूकता रैली, बैठकें, सर्वेक्षण एवं विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जा रहा है। सभी नगरीय निकायों द्वारा स्व-सहायता समूह के सदस्यों को योजनाओं की जानकारी के साथ-साथ उन्हें लाभ पहुॅचाने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि पखवाड़े के दौरान रोजगार मेला, समूहों द्वारा उत्पादित सामग्रियों का प्रर्दशनी किया जा रही है। इसके अतिरिक्त शहरी सहभागिता मंच के माध्यम से स्थानीय निकायों एवं गठित समूहों के सदस्यों, संघो के सदस्यांे की बैठक में समस्याओं पर चर्चा एवं उनके समाधान के संबंध में विचार-विमर्श किया जाएगा। नगरीय प्रशासन विभाग के सचिव निरंजन दास ने बताया कि नगरीय निकायों के सभी स्व-सहायता समूहों, क्षेत्र एवं शहरी संघो के सदस्यों का सहभागिता मंच के सहयोग से बैठक आयोजित की जा रही है। बैठकों में सदस्यों द्वारा आवश्यक सहयोग एवं सुझाव भी दिए जा रहे हैं। समृद्धि उत्सव पखवाड़ा मनाने का मूल उद््देश्य महिलाओं की अजीविका संवर्धन के साथ-साथ समूहों द्वारा तैयार की गई सामग्रियों को बाजार उपलब्ध कराना है। इस दौरान समूहों द्वारा निर्मित सामग्रियों और कलाकृतियों की ब्रांडिंग भी की जा रही है, ताकि उनके उत्पाद को बाजार में उचित कीमत मिल सकें।