सूर्य नमस्कार के साथ युवाओं ने सीखा ऊर्जा विज्ञान

0
88

00 जीवन में परिवर्तन लाने कि किया निश्चय
राजनांदगांव। मां पंचगव्य गौशाला एवं अनुसंधान केन्द्र द्वारा मकर संक्रान्ति के उपलक्ष्य में आज 14 जनवरी को खेल मैदान बजरंगपुर नवागांव में प्रात: 6 बजे सूर्यनमस्कार एवं उर्जा विज्ञान पर विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में योग शिक्षक श्री निर्भय जी ने योग व प्राणायाम की जानकारी देते हुए बताया कि हम किस प्रकार योग व प्राणायाम का नियमित अभ्यास कर निरोगी जीवन एवं लंबी आयु प्राप्त कर सकते हैं। कार्यक्रम में ऊर्जा विज्ञान पर जानकारी देते हुए अनुसंधान केन्द्र प्रभारी प्रमोद कश्यप ने बताया कि आधुनिक दुनिया बहुत अधिक विकृत हो चुकी है। जिसकी वहज से हमारे उपयोग में आने वाली प्रत्येक वस्तु में दो प्रकार की व्यवस्था निर्मित हुई है। एक वस्तु आपकी ऊर्जा को बढ़ाता है और वहीं उसके जैसी उपयोगी एक दूसरी वस्तु आपकी ऊर्जा को घटाती है। हमें यहां तय करना होगा कि हम अपनी ऊर्जा को बढ़ाने वाली वस्तु का चयन करें। प्रत्येक वस्तु में ऊर्जा निहित होती है। जिसे हम देख तो नहीं सकते पर अपने प्रयोग के माध्यम से प्रत्यक्ष महसूस कर सकते हैं। कार्यक्रम स्थल पर ही सफेद जहर के रूप में जाने जाने वाले आयोडीन नमक – शक्कर एवं मोबाईल रेडिएशन आदि पर वहां युवाओं पर प्रयोग किया गया और उनके नुकसान से युवाओं को परिचित कराया गया। उन्होंनें बताया कि श्री राजीव दीक्षित जी के स्वदेशी विचारों को अपनाते हुए हमें अपने दैनिक जीवन में उपयोग में आने वाली वस्तु में सेंधा नमक, गुड़, जैविक अनाज व गौ उत्पाद दूध, दही, घी आदि का उपयोग करना चाहिए। वर्तमान रासायनिक खाद्यान्न के विकल्प और उसके दुष्प्रभाव से बचने के उपाय बताते हुए श्री कश्यप जी ने बताया कि श्री राजेश कपूर जी द्वारा बताया गया ऊर्जा विज्ञान आपके साथ है। अब आपको कोई मूर्ख नहीं बना सकता, अपने जीवन में उपयोग आने वाली प्रत्येक वस्तु की ऊर्जा मापने के पश्चात ही आप सावधानी पूर्वक उसे उपयोग में लें। कार्यक्रम में दरवेश कामड़े, वार्ड पार्षद घंसूराम साहू, धर्मेन्द्र साहू, कौशल साहू, पुरू षोत्तम देवांगन, लव यादव, टीकम सेन, हेमन्त देवांगन, प्रकाश देवांगन, अमन वर्मा सहित तिरंगा ग्रुप के युवा खिलाड़ी एवं बड़ी संख्या में बच्चे उपस्थित थे।