आपस में समन्वय बनाकर जिले के विकास कार्यों में गति लायें- राजस्व मंत्री

0
75

कोरबा। राजस्व एवं आपदा प्रबंधन, पुनर्वास, पंजीयन एवं स्टाम्प मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने आज जिला स्तरीय अधिकारियों तथा जिले के विकास कार्यों से संबंधित सार्वजनिक व निजी उपक्रमों, रेलवे, राष्ट्रीय राजमार्ग से संबंधित अधिकारियों की बैठक ली। उन्होंने बैठक में निर्देश दिया कि कोरबा जिला से संबंधित बिजली, पेयजल, सड़क, प्रदूषण, हाथी की समस्या, पुनर्वास, स्वास्थ्य, कुपोषण सहित अन्य जो भी समस्याएं हैं उसे शीघ्र ही दूर किया जाये। उन्होंने जिले के विकास कार्यों में प्रगति लाने और समय पर कार्य पूर्ण करने के निर्देश देते हुए सभी अधिकारियों को क्षेत्र के जन प्रतिनिधियों के साथ समन्वय बनाने के निर्देश भी दिए। बैठक में लोक निर्माण विभाग अंतर्गत मेंटेनेन्स आफ रोड चांपा-कोरबा, कटघोरा-बिलासपुर, जवाली-चाकाबुड़ा रोड, नेशनल हाइवे रोड पतरापाली-कटघोरा, कटघोरा-कोरबा-चांपा, भारत माला प्रोजेक्ट, सड़क विकास निगम अंतर्गत सीपत-उरगा-हाटी रोड, एसईसीएल सड़क अंतर्गत सर्वमंगला से इमलीछापर, सर्वमंगला से कनकी, रेकी-रतिजा बाईपास, कटसीरा से धतुरा, हरदीबाजार से दीपका एवं निगम सड़क अंतर्गत बरबसपुर से गोपालपुर सड़क की समीक्षा की गई। ब्रिज कारर्पोरेशन अंतर्गत दर्री बराज का ब्रिज, गेरवाघाट का ब्रिज निर्माण की समीक्षा की गई। इसी प्रकार एसईसीएल, लैंको, बालको, एनटीपीसी एवं छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत मंडल उत्पादन के विस्थापितों के पुनर्वास, बिजली, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, वन, कृषि, सिंचाई, डीएमएफ, शिक्षा, नगरीय निकाय, पर्यावरण एवं रेल्वे अंतर्गत अंडर ब्रिज एवं इमलीछापर फ्लाई ओव्हर निर्माण की समीक्षा की गई। इस दौरान विधायक रामपुर ननकीराम कंवर, विधायक कटघोरा पुरूषोत्तम कंवर, पाली-तानाखार मोहित केरकेट्टा, कलेक्टर मो. कैसर अब्दुल हक, जिला पंचायत अध्यक्ष देवीसिंह टेकाम, उपाध्यक्ष अजय जायसवाल सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारीगण उपस्थित थे। जिला पंचायत सभाकक्ष में आयोजित समीक्षा बैठक में मंत्री श्री अग्रवाल ने जिले में राष्ट्रीय राजमार्ग, लोक निर्माण एवं एसईसीएल सीएसआर द्वारा स्वीकृत चिन्हित सड़कों के निर्माण एवं प्रगतिरत सड़कों की समीक्षा की। उन्होंने राष्ट्रीय राजमार्ग अन्तर्गत चिन्हित सड़कों की जर्जर स्थिति को देखते हुए लोगों के आवागमन हेतु क्वालिटीयुक्त मरम्मत के निर्देश दिए। उन्होंने एसईसीएल एवं रेलवे को लोगों के आवागमन को बेहतर बनाने की दिशा में कदम उठाने के निर्देश देते हुए कहा कि कोयला परिवहन के साथ लोगों के आवागमन के लिए बेहतर मार्ग की व्यवस्था सुनिश्चित करें। बैठक में एसईसीएल अन्तर्गत दीपका, हरदीबाजार, इमलीछापर, जवाली, चापकाबुड़ा, रेकी- रतिजा, सर्वमंगला-कनकी मार्ग, धतुरा रईबोध मार्ग की चर्चा की गई। इस संबंध में आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। अंडर ब्रिज निर्माण हेतु रेलवे जी.एम को बैठक में बुलाने के निर्देश- शहर में सुव्यवस्थित आवागमन हेतु रेलवे अन्तर्ग तीन अंडर ब्रिज निर्माण को लेकर चर्चा की गई। जिसमें रेलवे के उपस्थित अधिकारी के जवाब से संतुष्ट नहीं होने पर रेलवे के महाप्रबंधक को बुलाकर बैठक आयोजित करने के निर्देश मंत्री श्री अग्रवाल ने दिए। पावर प्लांट में स्थानीय को प्राथमिकता से नोैकरी दें- पुनर्वास संबंधी चर्चा में मंत्री श्री अग्रवाल ने लैंको पावर प्लांट द्वारा कुछ लोगों को नौकरी से निकाले जाने पर कड़ी आपत्ति जाहिर की। उन्होंने लैंकों प्रबंधन को निर्देशित किया कि प्लांट में स्थानीय बेरोजगारों को प्राथमिकता से नौकरी प्रदान की जाये। बिना उपयुक्त कारण के नौकरी से निकालने की सूचना प्राप्त होने पर आवश्यक कार्यवाही की जायेगी। नियम के अनुसार पुनर्वास ग्रामों में दें सुविधायें- मंत्री श्री अग्रवाल ने एसईसीएल अन्तर्गत सभी पुनर्वास ग्रामों में सड़क, पानी, बिजली सहित अन्य आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने पुनर्वास ग्रामों में जो भी समस्या है उसे दूर करने अधिकारियों को दौरा करने के निर्देश दिए। मंत्री ने पुनर्वास से संबंधित समस्याओं को लेकर शीघ्र ही बैठक आयोजित करने और उन ग्रामों की वस्तुस्थिति जानने क्षेत्र का स्वयं दौरा करने की बात कही। बैठक में विद्युत कंपनी अन्तर्गत डिण्डोलभाठा, बालको कूलिंग टावर प्रकरण की समस्या को दूर करने के निर्देश दिए। बिजली व्यवस्था बेहतर बनायें- बैठक में शहर एवं ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत व्यवस्था बेहतर बनाने किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की गई। 33 केव्ही एवं 132 केव्ही उप केंद्रों का निर्माण तथा कुछ स्थानों में निर्माण संबंधी समस्या को सुलझाने के निर्देश देते हुए विद्युत व्यवस्था बेहतर बनाने के निर्देश दिए। पानी का छिड़काव करें और प्रदूषण दूर करें- मंत्री श्री अग्रवाल ने पर्यावरण एवं प्रदूषण की समीक्षा करते हुए गर्मी में उड़ने वाले राखड़ को नियंत्रित करते हुए जिले में प्रदूषण की समस्या को दूर करने के निर्देश दिए। उन्होंने राखड़ बांध तथा डस्ट वाले सड़कों में नियमित रूप से पानी के छिड़काव करने के निर्देश दिए हैं। बैठक में चिमनी से निकलने वाले धुएं से फेलने वाले प्रदूषण, पावर प्लांटों के राखड़ को खदान में डालने के संबंध में निर्देश दिए गए। लोगों की समस्याएं दूर करे एसईसीएल प्रबंधन- समीक्षा बैठक में एसईसीएल प्रबंधन के वरिष्ठ अधिकारी एवं स्थानीय परियोजनाओं के महाप्रबंधक उपस्थित थे। मंत्री श्री अग्रवाल ने एसईसीएल कालोनी में व्याप्त बिजली, पानी, सड़क तथा सफाई, आवास व्यवस्था को लेकर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने एसईसीएल कोरबा सहित अन्य क्षेत्र में सफाई व्यवस्था सहित कर्मचारियों की अन्य समस्याओं अधिकारियों का ध्यान नहीं होने की बात कहते हुए निर्देशित किया कि आवासीय क्षेत्र की समस्याओं को दूर करें। उन्होंने एसईसीएल, सीएसईबी सहित अन्य उपक्रमों के अधिकारियोें को अपने कालोनियों में महिला एवं बच्चों के लिए उद्यान, स्टेडियम बनाने कहा। मंत्री श्री जयसिंह ने कहा कि कर्मचारी उनसे लगातार क्षेत्र की समस्याओं से अवगत कराते हैं। ऐसे में उनके समस्याओं का समाधान सुनिश्चित किया जाये। डीएमएफ, पेयजल, कृषि, हाथी समस्या, कुपोषण आदि की हुई समीक्षा- मंत्री श्री अग्रवाल ने जिला खनिज न्यास निधि अन्तर्गत स्वीकृत एवं निर्माणाधीन कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने महिला एवं बाल विकास विभाग अन्तर्गत जिले में गंभीर कुपोषित बच्चों की स्थिति, प्रदान किये जा रहे पोषण आहार, रेडी टू ईट की शिकायतों पर कार्यवाही, पेयजल अन्तर्गत जल प्रदाय योजना, कृषि विभाग अन्तर्गत कृषि कालेज भवन निर्माण एवं पाठ्यक्रम का जिले में संचालन, जंगली हाथी द्वारा किसानों के फसलों के नुकसान के एवज में दिए जाने वाले मुआवजा, वन अधिकार पट्टा, धान खरीदी एवं किसानों के ऋण माफी सहित नगरीय निकायों के विकास कार्यों की प्रगति एवं समस्याओं पर चर्चा करते हुए आवश्यक निर्देश दिए हैं।