सूख गया बोर, पानी को तरसे वार्डवासी

0
5

दो दिन से लोगों को नहीं मिला पानी
महासमुंद।
कुशाभाऊ ठाकरे गार्डन का बोर सूखने से वार्ड-३ के करीब ४० घर के लोग पानी के बूंद-बूंद को तरस गए हैं। टंकी खाली होने की वजह से दो दिन से पानी की सप्लाई नहीं हुई। आसपास के घरों से पानी व्यवस्था करना लोगों की मजबूरी हो गई है।
ज्ञात हो कि नगर पालिका ने वार्ड-३ में पानी की समस्या को देखते हुए कुछ दिन पहले गार्डन के पास नया नलकूप खनन करवाया था। उसमें मोटर लगाकर पानी की सप्लाई शुरू हुई। इससे लोगों को राहत की सांस मिली है। १५ रोज बाद बोर सूख गया। टंकी में जितना पानी था, सप्लाई के बाद खाली हो गया। अब दो दिन से वार्ड के लोगों को पानी नहीं मिला है। बताया जाता है कि नगर पालिका के कर्मचारी मंगलवार को कुशाभाऊ ठाकरे गार्डन पहुंचे। बोर में पांच पाइप डाला गया, फिर भी पानी नहीं निकला। अंदाजा लगाया जाता है कि नया बोर भी सूख गया है। इस कारण वार्ड में पानी को लेकर हाहाकार मच गया है। नगर पालिका के पास यहां के लोगों को पानी सप्लाई करने के लिए टैंकर के अलावा कोई विकल्प नहीं है। ऐसे में लोगों की मुसीबत बढ़ती दिख रही है। पुराने नलकूप भी पहले से सूख गया है। ज्ञात हो कि लोगों को पेयजल आपूर्ति के लिए नगर पालिका से टैंकर भेजा रहा है। टैंकर ऐसे टाइम पर पहुंचता है कि लोग पानी नहीं भर पाते हैं। बताया जाता है कि पिछले वर्ष इस वार्ड को जलावर्धन योजना के तहत जोडऩा था, लेकिन किन्ही वजहों से जुड़ नहीं पाया। यदि जलावर्धन योजना के तहत वार्ड-३ में पानी की सप्लाई होती, तो लोगों की प्यास बुझ सकती थी। अब गार्डन के दोनों बोर सूख जाने के बाद क्या होगा, इसका जवाब नगर पालिका के पास भी नहीं है।
वार्ड में गहराया जलसंकट
मालूम हो कि भीषण गर्मी के कारण वार्ड-३ के अलावा कई वार्डों में नलकूप भी लगातार बंद हो रहे हैं। पानी की समस्या बढ़ गई है। जैसे-तैसे काम चल रहा है। लोग दिनभर पानी को लेकर टेंशन में हैं। भू-जलस्तर गिरने से आने वाले दिनों में समस्या और बढ़ सकती है। वहीं मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक इस वर्ष सामान्य से कम वर्षा होने उम्मीद है। इस कारण लोग और चिंता में पड़ गए हैं। क्योंकि अच्छी बारिश नहीं होने से भू-जलस्तर भी नहीं बढ़ेगा। यानी जितने नलकूप या हैंडपंप बंद हो चुके हैं, शायद ही उबर पाएंगे।
गार्डन का नलकूप सूख गया है। मंगलवार को पांच पाइप डाला गया, लेकिन पानी नहीं निकला। आज फिर कोशिश करेंगे।
विजय श्रीवास्तव, जलप्रभारी, नगर पालिका