झमाझम बारिश ने खलल डाला
कोरबा। जिले में तीसरे दिन भी मंगलवार को मौसम का मिजाज बदला रहा। दो दिनी पाली महोत्सव पर भी बारिश ने खलल डाला। शाम 4 बजे कई क्षेत्रों में झमाझम बारिश हुई। बिजली भी बंद हो गई। पाली महोत्सव में शाम को गल्र्स स्कूल की छात्राओं ने पहले पंथी नृत्य की प्रस्तुति दी। इसके बाद रिमझिम बारिश शुरू हो गई।
जैसे ही शाम 5 बजे कस्तुरबा आश्रम मुनगाडीह के बच्चों ने बाहुबली के गीत पर नृत्य शुरू किया वैसे ही झमाझम बारिश होने लगी। कुर्सी में बैठे लोग बारिश से बचने किनारे चले गए तो कलाकार बच्चे तिरपाल को ढंक कर कार्यक्रम देखते रहे। इसके बाद कार्यक्रम को बंद कर दिया गया। बारिश थमने पर दो घंटे बाद मंचीय कार्यक्रम शुरू हुआ। पाली महोत्सव के लिए गवर्नमेंट हायर सेकेण्डरी स्कूल मैदान में खुला मंच ही बनाया था। लोगों के लिए खुले में कुर्सियां लगाई थी। कार्यक्रम शाम 4 बजे शुरू हुआ। मिडिल स्कूल के बच्चों ने पंथी नृत्य की प्रस्तुति दी। इसके बाद कस्तुरबा आश्रम के बच्चों ने बाहुबली के गीत पर नृत्य प्रस्तुत किया। वैसे ही बारिश शुरू हो गई। बच्चों ने बारिश के बीच ही अपना नृत्य पूरा किया। बच्चे तिरपाल ढंक कर बचते नजर आए। इस बीच बिजली भी चली गई। दो घंटे बाद शाम 7.20 बजे कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ। सांसद डॉ. बंशीलाल महतो, संसदीय सचिव लखनलाल देवांगन पहुंचे थे, लेकिन वे मौसम साफ होने के लिए रेस्ट हाउस में बैठकर इंतजार करते रहे।
पाली महोत्सव का शुभारंभ करते हुए मुख्य अतिथि सांसद डॉ. बंशीलाल महतो ने कहा कि प्रदेश में महाशिवरात्रि पर यह अनुठा आयोजन है। इसकी पहचान अब प्रदेश स्तर पर होने लगी है। उन्होंने शासन की कल्याणकारी योजनाओं को बताते हुए किसानों व ग्रामीणों को लाभ उठाने के लिए प्रेरित किया। संसदीय सचिव लखनलाल देवांगन, जिला पंचायत अध्यक्ष देवी सिंह टेकाम ने भी कार्यक्रम की सराहना की। कलेक्टर मो. कैसर अब्दुल हक ने महोत्सव पर प्रकाश डाला। इस मौके पर पाली जनपद अध्यक्ष जाम बाई श्याम, नगर पंचायत अध्यक्ष संजू जायसवाल, एसपी मयंक श्रीवास्तव, डीएफ ओ एस जगदीशन, जिला पंचायत सीईओ इंद्रजीतसिंह चंद्रवाल उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here