किसानों की समृद्धि शासन की पहली प्राथमिकता : टी. एस. सिंहदेव

0
67

00 बेमेतरा में राज्य स्तरीय कृषि मेले का समापन
रायपुर,
पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री टी. एस. सिंहदेव ने आज जिला मुख्यालय बेमेतरा में राज्य स्तरीय कृषि विकास एवं किसान कल्याण मेला के समापन समारोह में शामिल हुए। उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसानों और मजदूरों ने जो आशीर्वाद दिया है। सरकार ने कार्यभार सम्भालते ही कर्ज माफी और 2500 सौ रूपये प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का पहला वादा पूरा किया। प्रदेश की जनता ने जो जिम्मेदारी दी है, उसे हमनें पूरा किया। जनघोषणा पत्र के अनुरूप जनता की मांग को पूरा करना सरकार की पहली प्राथमिकता है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि जिला अस्पताल बेमेतरा में सेट-अप के अनुरूप विशेषज्ञ डॉक्टर के 17 पद रिक्त हैं। इसी तरह 100 बिस्तर के नया लोकार्पित एम.सी.एस अस्पताल के लिए 11 विशेषज्ञ डॉक्टर का पद सेट-अप के अनुसार खाली है उसे भी भरा जाएगा। स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंहदेव ने कहा कि सरकार ने कार्यभार सम्भालते ही 345 नये डॉक्टरों की भर्ती किये हैं। इनमें से 17 डॉक्टरों की बेमेतरा जिले में पोस्टिगं की गई है। 300 सौ डॉक्टरों का विशेषज्ञ डॉक्टर के रूप में प्रमोशन होना है। मैं भरोसा दिलाता हूं कि इनमें 10 प्रतिशत बेमेतरा जिले में पदस्थ किये जायेंगे। उन्होंने नवागढ़ ब्लॉक के अन्तर्गत ग्राम नांदघाट में सर्वसुविधा युक्त अस्पताल के लिए भी सरकार की ओर से आवश्यक पहल किये जाने की बात कही। उन्होंने कहां कि जिले के विकास के लिए जो भी प्राथमिकता है उसे आपस में मिल-बैठकर तय करेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहें स्कूल शिक्षा एवं सहकारिता मंत्री डॉ प्रेमसाय सिंह टेकाम ने कहां कि चार दिवसीय इस कृषि मेले में प्रदेश के हर जिले के किसानों ने यहॉ आकर प्रदर्शनी का अवलोकन किया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में सरकार बनते ही 16 लाख किसानों की लगभग 10 हजार करोड़ रूपए की ऋण माफी की कार्यवाही की गई। डॉ. टेकाम ने कहा कि 30 नवम्बर 2018 के पहले अल्पकालिन ऋण भी माफ किया गया। छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य है, जिसने किसानों से 2500 रूपये प्रति क्विंटल की दर से समर्थन मूल्य पर धान खरीदा गया। प्रदेश में 80 लाख मीटरिक टन धान की खरीदी की गई। कृषि मेले के माध्यम से कृषक कृषि के उन्नत तकनीक से परिचित होंगे और कृषि का उत्पादन बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी नरवा, गरूवा, घुरूवा अउ बारी के संरक्षण की जरूरत है। किसानों की आय बढ़ाने के लिए हरित क्रांति, श्वेत क्रांति, नील क्रांति की ओर आगे बढ़ेंगे। डॉ. टेकाम ने कहां कि कृषि अनुसंधान के क्षेत्र में जो रिसर्च हो रहे है इसका लाभ किसानों को मिले। उन्होंने कहा कि प्रदेश का पांचवा शक्कर कारखाना बेमेतरा जिले में खुलेगाा। इसके लिए मुख्यमंत्री ने घोषणा की है। डॉ. टेकाम ने कहा कि प्रदेश के सभी संम्भाग के जिलों में बारी-बारी से कृषि मेला लगाए जाने पर विशेष रूप से बल दिया। कृषि मंत्री श्री चौबे ने कहा कि चार दिवसीय इस मेले में बड़ी संख्या में किसानों ने अपनी भागीदारी निभाई है। मेले के आयोजन से किसानों को सीखनें को मिला कि उन्नत खेती कैसी की जा सकती है। आत्मनिर्भर कैसे बना जा सकता है। राज्य सरकार द्वारा 351 रूपये प्रति क्व्टिंल की दर पर गन्ना की खरीदी की जा रही है। गौवंश के सरंक्षण के लिए चरवाहा रखा जाएगा तथा उसका पैसा मनरेगा से दिया जायेगा। कृषि मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा कृषि मेला में शामिल होकर बेमेतरा जिले में फूडपार्क, शक्कर कारखाना का निर्माण, दुग्ध शीतलीकरण केन्द्र, उद्यानिकी कालेज, एवं बेमेतरा शहर के लिए बायपास रोड निर्माण की घोषणा की है। समापन समारोह में विधायक बेमेतरा आशीष कुमार छाबड़ा, नवागढ़ विधायक गुरूदयाल सिंह बंजारे, पण्डरिया विधायक ममता चन्द्राकर ने भी अपने विचार व्यक्त किये। स्वागत भाषण अपर मुख्य सचिव श्री के.डी.पी.राव ने दिया। कृषि मेले के कम समय में सफल आयोजन के लिए कृषि मंत्री ने आयोजकों को बधाई दी।