युद्धपोतों की खरीद पर मोदी सरकार ने लगाई मुहर

0
28

नई दिल्लीः रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन की भारत यात्रा से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी ने रूस से चार युद्धपोत की खरीद के सौदे पर मुहर लगा दी है.इन चार युद्धपोतों में से दो पोत रूस की कंपनी यांतार शिपयार्ड बनाएगी, वहीं बाकि के दो भारत की गोवा शिपयार्ड लिमिटेड (जीएसएल) कंपनी तैयार करेगी. गौरतलब है कि भारत और रूस के बीच साल 2016 में अंतर-सरकारी समझौते के तहत चार युद्धपोत की खरीद पर समझौता हुआ था. भारतीन नौ सेना को ये चार युद्धपोत अगले सात साल में मिल जाएंगे.बता दें इस समय नौसेना में तीन क्रिवाक/तलवार क्लास और तीन टेग क्लाग युद्धपोत मौजूद हैं, जिन्हें 2003 से 2013 के बीच नौसेना में शामिल किया गया था. 3620 टन वजन वाली एडमिरल ग्रिगोरोविच क्लास रुस द्वारा भारतीय नौसेना के लिए निर्मित क्रिवाक/तलवार क्लास फ्रिगेट का उन्नत संसकरण है. इस युद्धपोत की उच्चतम गति 30 नॉट प्रतिघंटे है जो ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल प्रणाली से लैस होने में सक्षम है. यह चारों एडमिरल ग्रिगोरोविच क्लास ‘प्रोजेक्ट 1135.6’ फ्रिगेट, गैस टर्बाइन इंजन से लैस होंगे जिन्हें यूक्रेन की फर्म यूक्रोबोरोनप्रोम बनाकर तैयार करेगा.