मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने किया राज्य के पहले नवाचार केंद्र का लोकार्पण

0
9
????????????????????????????????????

युवा स्टार्ट-अप उद्यमियों को प्रोत्साहित करते हुए कहा : मन से काम करने वालों को मिलती है सफलता
स्टार्ट-अप को आगे बढ़ाने हर संभव सहयोग का आश्वासन
रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां पंडरी स्थित सिटी सेंटर मॉल में राज्य के पहले और देश के दूसरे सबसे बड़े स्टार्टअप इन्क्यूबेशन सेण्टर ‘36 इंक‘ का लोकार्पण किया। इस सेण्टर में स्टार्ट-अप उद्यमियों के लिए आधुनिकतम तकनीक के नवीनतम उपकरण उपलब्ध कराया गया है। लगभग 30 हजार वर्ग फीट में स्थापित इस केन्द्र में थ्री-डी प्रिंटर्स, लेज़र कटर, इलेक्ट्रॉनिक्स टेस्टिंग और मल्टीमीडिया निर्माण सुविधाएं उद्यमियों को उपलब्ध होंगी। इस केन्द्र के लोकार्पण के साथ ही यहां 125 स्टार्ट-अप उद्यमियों द्वारा कार्य भी प्रारंभ कर दिया गया है।
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर छत्तीसगढ़ के युवा स्टार्ट-अप उद्यमियों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि पूरे मन से काम करें, सफलता अवश्य मिलेगी। जो मन से करता है, वह कभी पराजित नहीं होता। उन्होंने युवा उद्यमियों को सफलता के लिए शुभकामनाएं देते हुए कहा कि स्टार्टअप को आगे बढ़ाने के लिए राज्य शासन द्वारा हर संभव सहयोग दिया जाएगा।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि यह सेंटर राज्य शासन की अनूठी पहल है। राज्य शासन युवा स्टार्ट-अप उद्यमियों को सभी आवश्यक सहयोग प्रदान करेगा। डॉ. रमन सिंह ने कहा कि यह देश का दूसरा सबसे बड़ा सेण्टर है। इस अवसर पर उद्योग मंत्री अमर अग्रवाल, छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम (सी.एस.आई.डी.सी.) के अध्यक्ष छगन मुंदड़ा, मुख्य सचिव अजय सिंह, सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के प्रमुख सचिव अमन सिंह, अटल इनोवेशन मिशन, नीति आयोग, नई दिल्ली के मिशन डायरेक्टर रमन्न रामनाथन, सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव संजय शुक्ला, छत्तीसगढ़ इन्फोटेक प्रमोशन सोसायटी (चिप्स) के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एलेक्स पॉल मेनन, 36inc इन्क्यूबेशन सेण्टर के मुख्य कार्यपालन अधिकारी राजीव रॉय भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने इन्क्यूबेशन सेंटर का अवलोकन भी किया। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने इस अवसर पर युवा स्टार्ट-अप उद्यमियों द्वारा विकसित 5 नये प्रोडक्ट का भी शुभारंभ किया। जिनमें हिन्दी एंव छत्तीसगढ़ी भाषा में विकसित किये गये ‘मेडिक्लिक मोबाईल एप्प’, व्यावसायिक परामर्श के लिए छत्तीसगढ़ी भाषा में ‘माई अगला कदम‘, कृषि कार्यों के लिए ‘गोवत्स‘, दिव्यांगों के लिए ट्राईसाईकिल, शिक्षा क्षेत्र के लिए ‘स्कॉलरबज्’ एवं रायपुर बाजार प्रोडक्ट शामिल हैं।

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि राज्य में 36inc सेण्टर की स्थापना प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विचारों को आगे बढ़ने की दिशा में ठोस कदम है। 36inc इन्क्यूबेशन सेण्टर को केंद्र सरकार द्वारा अटल अभिनव केंद्र बनाने के लिए 3 गैर शैक्षणिक इन्क्यूबेटरों में से एक के रूप में चुना गया है। पूरे देश से प्राप्त लगभग 2000 आवेदनों में से राज्य 36inc इन्क्यूबेशन सेण्टर का चयन हुआ। यह एक ऐसा केंद्र है, जहाँ युवा उद्यमी अपने विचार ले कर आयेंगे और उन विचारों को एक सफल व्यापार का रूप देंगे।

चिप्स के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऐलेक्स पॉल मेनन ने बताया कि यह छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा समर्थित राज्य का पहला कोर इन्क्यूबेशनस-कम-एक्सीलरेटर सेंटर है। 36inc संस्थान सम्पूर्ण राज्य में नेटवर्क और इनक्यूबेटर-कम-एक्सीलरेटर हब के रूप में कार्य करेगा। इससे रायपुर जैसे नवप्रगतिशील क्षेत्र को वैश्विक स्तर के उच्च क्षमता वाले उद्यमियों के साथ मिलकर काम करने का अवसर मिलेगा। 36inc का मुख्य उद्देश्य एक ऐसे मंच का निर्माण करना है जिसमें सभी को समान अवसर मिले। संस्थान में हब और स्पोक मॉडल लगा होगा, जिससे विभिन्न महाविद्यालयों की ई-सेल और महाविद्यालय स्तर के इंक्यूबेटर इस संस्थान से जुड़ेंगे। सेंटर के अंतर्गत बनाये जाने वाले अनेक लैब उद्यमियों को बड़ा लाभ प्रदान करेंगे। 36inc सेंटर इसलिए भी देश में सर्वश्रेष्ठ माना जायेगा क्योंकि इस सेंटर में रैपिड प्रोटोटाइपिंग लैब वाली मशीने होंगी। जिसका उपयोग आईडिया को मूर्त रूप देने में किया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here