रेलवे में लाल फीताशाही खत्म करेगी सरकार, ठाकरे बोले- लोगों को मारने आतंकी नहीं, रेलवे ही काफी

0
13

मुंबई,। मुंबई के फुट ओवर ब्रिज हादसे से सरकार भी सदमे में आ गई है। शनिवार को रेल मंत्री पीयूष गोयल ने चर्च गेट में रेलवे के अफसरों के साथ उच्चस्तरीय बैठक की। पीयूष गोयल ने कहा कि अगले 15 महीनों में मुंबई की सभी उपनगरीय ट्रेनों में मॉनीटरिंग के लिए सीसीटीवी लगाए जाएंगे। गोयल ने कहा- रेलवे में लाल फीताशाही खत्म की जाएगी। मुंबई के सभी उपनगरीय स्टेशनों पर अतिरिक्त एस्केलेटर्स लगाए जाएंगे और इसके बाद सभी भीड़ वाले स्टेशनों पर इन्हें लगाया जाएगा। गौरतलब है कि मुंबई के एलफिन्स्टन रेलवे स्टेशन पर शुक्रवार को एफओबी पर भगदड़ मच गई थी। इसमें 23 लोगों की जान गई।
बैठक में लिए गए निर्णय
हर रेलवे स्टेशन में होंगे पैदल ओवर ब्रिज
200 अफसर फील्ड में तैनात होंगे, जो जमीनी हालात के विकास कार्य देखेंगे
000 करोड़ के निवेश से 40 यार्ड्स को और विकास होगा, इसमें से 8 मुंबई क्षेत्र के होंगे
1 मल्टी डिसिप्लेनरी ऑडिट टीम बनेगी जो एक हफ्ते के भीतर सभी रेलवे स्टेशंस का दौरा करेगी और वहां की परेशानियों की पहचान करेगी
आतंकवादियों की जरूरत नहीं, रेलवे ही लोगों को मारने के लिए काफी
महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे का बयान – 22 लोगों की मौत और 30 लोगों के घायल होने के एक दिन बाद मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने सरकार को चेताया है कि यदि लोकल रेलवे का इंफ्रास्ट्रक्चर बेहतर नहीं किया गया तो मुंबई में बुलेट ट्रेन के लिए एक ईंट तक नहीं रखने देंगे। एलफिंस्टन स्टेशन हादसे के बाद शनिवार को वह बोले, हमें आतंकवादियों या पाकिस्तान जैसे दुश्मनों की जरूरत क्या है? ऐसा लगता है कि हमारी अपने रेलवे ही लोगों को मारने के लिए काफी है।
नोटबंदी जैसी होगी बुलेट ट्रेन, कुछ खत्म कर देगी: चिदंबरम
नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने भी मोदी सरकार पर हमला बोला है- बुलेट ट्रेन नोटबंदी जैसी होगी, जो अपने रास्ते में आने वाली हर चीज को खत्म करती जाएगी। उन्होंने कहा कि इसमें इस्तेमाल होने वाला पैसा रेलवे की सुरक्षा और निर्माण पर इस्तेमाल किया जाना चाहिए।
सरकार में बनी रहेगी शिवसेना : उद्धव
शिवसेना ने तमाम अटकलों पर विराम लगाते हुए कहा कि वह जनहित की रक्षा के लिए सरकार में बनी रहेगी। पार्टी ने मुखपत्र सामना में शनिवार को कहा कि जनता के हितों की रक्षा के लिए सत्ता में बनी रहेगी। भाजपा के साथ शिवसेना के तल्ख रिश्तों में तब और तनाव आ गया था जब उसके सांसद संजय राउत ने हाल में कहा कि उनकी पार्टी जल्द ही फैसला करेगी कि उसे महाराष्ट्र में फड़णवीस नीत गठबंधन सरकार में रहना है या नहीं। बहरहाल, पार्टी ने मुखपत्र सामना में आज के संपादकीय में कहा गया है कि जब विधानसभा चुनाव दो साल बाद होने जा रहे हैं तो पार्टी गठबंधन नहीं तोड़ेगी और जनता के हितों की रक्षा के लिए सत्ता में बनी रहेगी। फड़णवीस सरकार में 39 सदस्यीय मंत्रिमंडल में शिवसेना के 12 मंत्री हैं। इनमें पांच कैबिनेट स्तर के हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here