मात्र एक छात्रा के लिए रूस की रेलवे ने किया परिवर्तन

0
69

मास्को। करीब दो साल पहले जापान के सुदूर स्टेशन पर ट्रेन केवल इसलिए रुकती थी ताकि वह वहां से छात्रों को स्कूल ले जा सके और वापस ला सके। ऐसी ही एक कहानी रूस में सामने आयी है। संत पीटर्सबर्ग-मुरमांस्क ट्रेन ने अपने रुट में एक स्पेशल स्टेशन जोड़ा है वह भी एकमात्र स्कूल जाने वाली बच्ची के लिए जो रोजाना अपनी दादी के साथ स्कूल जाती है। स्थानीय रेलवे कंपनी के प्रवक्ता ने बताया, ‘हमने कंडालाक्शा जिला प्रशासन के पोयाकोंडा स्टेशन पर अतिरिक्त स्टॉपेज के आग्रह पर विचार किया और मंजूरी दे दी है।’ एक खबर के अनुसार, सुदूर पोयाकोंडा से 14 वर्षीय करीना कोजलोवा अपनी दादी नतालिया कोलोवा के साथ स्कूल जाती है और वहां से वापस आती है। रूस के उत्तर पश्चिमी इलाके में बसा पोयाकोंडा ग्रामीण इलाका है। चूंकि ट्रेन वहां रेलवे कर्मचारियों के लिए रुकती है इसलिए करीना व उसकी दादी के लिए कोई दूसरा विकल्प नहीं है, और वे इसी समय को फॉलो करती हैं। वे सुबह के 7.30 बजे ट्रेन में सवार होती हैं और रात के नौ बजे के करीब वापस लौटती हैं। पोयाकोंडा में मात्र 50 परिवार हैं जिसमें से एक स्कूली छात्रा है। वह जेलेनोबोसर््की के गांव में स्कूल के लिए जाती है। यहां तक पहुंचने के लिए एक घंटे की ट्रेन यात्रा करनी होती है। रिपोर्ट के अनुसार, दिसंबर में लंबे दूरी वाली ट्रेनों के रूट से पोयाकोंडा स्टेशन को हटा दिया गया था और स्कूल बसों को वहां आना असंभव है क्योंकि मार्ग में 10 किमी का जंगल से घिरा रोड है। और इसलिए मास्को स्टेट यूनिवर्सिटी में कार्यरत करीना की मां ने रेलवे अधिकारियों से यहां स्टॉप बनाने की मांग की। नये स्टॉप बनने के बाद करीना को वापस लौटने में देर नहीं हुआ करेगा। स्पूतनिक इंटरनेशनल के अनुसार, करीना की मां के दरख्वास्त पर क्षेत्रीय अधिकारियों में इस मुद्दे के समाधान के लिए एक नया स्टॉप बनाने की मंजूरी दे दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here