रहन सहन सूचकांक से शहरों के जीवन स्तर में आएगा सुधार : पुरी

0
31

नई दिल्ली। आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा है कि शहरों में सामान्य जनजीवन को आसान और सुविधासंपन्न बनाने की दिशा में रहन सहन सूचकांक मददगार साबित होगा। पुरी ने देश के 116 चिन्हित शहरों के लिये तैयार किये जा रहे रहन सहन सूचकांक की कार्ययोजना को प्रभावी बनाने हेतु आज आयोजित कार्यशाला में कहा कि भविष्य में हर साल यह सूचकांक जारी होगा। इसमें चरणबद्ध तरीके से शहरों की संख्या बढ़ायी जायेगी। उन्होंने कहा कि सूचकांक बनाने में शामिल लोगों को शहरों में मानकों का व्यवहारिक पालन सुनिश्चित करने के लिये व्यापक प्रशिक्षण से सूचकांक को प्रभावी बनाया जा सकेगा। पुरी ने कहा कि इससे सूचकांक में शामिल शहरों में रहन सहन की वास्तविक स्थिति का स्वत: अनुमान लगाया जा सकेगा। साथ ही सूचकांक में अव्वल रहने के लिये शहरों में स्वस्थ प्रतिस्पर्धा भी बढ़ेगी। साथ ही कार्यशाला के माध्यम से शहरों के स्थानीय निकायों और प्रशासन को सूचकांक के मानकों की सूक्ष्म जानकारी मिल सकेगी जिससे वे इसका पालन बखूबी सुनिश्चित कर सकेंगे।
उल्लेखनीय है कि मंत्रालय ने पहली बार शुरू किये गये इस सूचकांक में शामिल शहरों के लिये बेहतर जीवन स्तर और रहन सहन के मानक तय किये हैं। सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) के मानकों पर आधारित इन मानकों की पूर्ति के आंकलन के आधार पर शहरों को वरीयता क्रम में सूचकांक में जगह दी जायेगी। शहरी रहन सहन के कुल 79 मानकों को 15 श्रेणियों में विभक्त किया गया है। सूचकांक के आंकलन की पहले चरण की प्रक्रिया अगले महीने पूरी करने का लक्ष्य तय किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here